व्यथा नारी की…..


दकियानूसी खयालात छूटते नहीं,

अकल पर से परदे भी हटते नहीं,
लड़के-लड़कीकी हो ना बराबरी,

इस सोच से आगे कभी बढ़ते नही,
सहलो सब चूपचाप ताला ले मूँहपे,

मर्द हैं अपना कूटेगा गैर कूटते नहीं,
ले ज़खम तनपे,मूश्कुराओ होठोसे,

प्यारके दो लफ़्ज कहीसे फूटते नही,
तन से टूटी मन से हारी तेरी बन दासी,

ख्वाहिसे पूरी कर मेरे सपने जूड़ते नही,
एक मरी तो ले आएंगे तेरे लिए दूजी,

यूंही तो किसीके जौहर जलते नही।।

Modern era…. 

jamana aajka bahot aadhunik ho gaya,

dili pyarka mulyake starka para niche gir gaya,

pashan yug par karke cement yugme aa gaya,

unchi unchi imarto k bich manvi dab gaya,

upakarnone vigyan k hosiyar to banaya,

sachhe pyarka bhog vasnane le liya,

ma-bapka pyar bhulke veshyame mashruf hua,

peiso ki khatir manav tu kitna niche gir gaya!

bhagvanka sthan sant-baba ne le liya’ish’,

srujan karke pruthvi ka prabhu tu kahi kho gaya..

i hate it….


मुज़े नफरत हैं एसे लोगो से जो अपने ही देशमें रहकर गैर मूल्क की प्रशंसामें रत रहते हैं,राष्ट्रके प्रति सम्मान नही,राष्ट्रभाषा के प्रति मान नही, जब देश पर मूसिबत आए तो ऐसे चूहें सबसे पेहले दूबकते हैं,अपने मूल्क में रहकर गैरोका साथ देते हैं, भारत के सिवा कही ये देखने को नही मिलता।
और उसके गैरमूल्किय विचारो के साथ सहमत होने वाले उतने ही गुनहगार हैं जितने की वो, क्युंकि एसे ही लोग उसे बढ़ावा देते हैं।
ये मेरे विचार हैं,कड़वे हैं पर सत्य हैं।

Mix words..😊

Sadgi se jina Sikha he bachpan se, 

High society me Rehna nahi aata, 

Dil KI bat khulke kahi he hamesha, 

Shortcut me Kehna nahi aata, 

Kehte he sab zaban Kadvi he meri par, 

Adulation Muje Karna nahi aata, 

Badlne khudko saksham bhale hi Hu me, 

Gratuitous Muje badlna nahi aata, 

Lad lungi akele puri duniya se me, 

Warrior Banke Ladna nahi aata..